About Me

My photo
Jaunpur, Uttar Pradesh, India
"PricE of HappinesS"... U can tring tring me on +91 9981565685.

Monday, April 22, 2013

शहर-ए-बनारस.......


हर--बनारस...
बसती है ज़वां रूह, हर--बनारस में,
मिलता दिल--सुकूं, हर--बनारस में,
विद्या की राजधानी, बसते हैं ब्रह्म-ज्ञानी,
इतिहास है पुराना, पहचान है पुरानी,
देवों की है ये नगरी, अमृत यहां का पानी,
रहते हैं महादेव, हर--बनारस में,
गंगा बहे सदैव, हर--बनारस में,
कुछ आम नहीं है, सब खास यहां है,
जीवन सपन सलोना, एहसास यहां है,
मस्ती का शहर है, ये घाटों का शहर है,
सुबह-ए-बनारस में, सब खुशियों का बसर है,
जन-जन की है ये मंज़िल, यह मोक्ष नगर है,
मणिकर्णिका का द्वार, हर--बनारस में,
मृत्यु-मोक्ष-मार्ग, हर--बनारस में,
बसती है ज़वां रूह, हर--बनारस में,
मिलता दिल--सुकूं, हर--बनारस में II
- सुरेश कुमार

Monday, February 25, 2013

I/Me/Myself...


दिल काफ़िला...


कारवां गुज़र चुका था, मंज़िलें थी गुमशुदा.........
वक्त की मज़ार पे, अस्कों में डूबा था लम्हा.....
रास्ते मायूस थे कि, हमसफ़र भी ना मिला.......
थी डगर वीरान सी, गुम हुआ दिल काफ़िला......I
शुक्र है उस वक्त का, खुदपर यकीं ये जब हुआ..
है खुदा तू साथ मेरे, क्या मिला और क्या गया...
वक्त को मंज़ूर कर, लम्हों की उंगली थाम ली...
ज़िन्दगी, रंगीन चादर ओढ़े हुए दिल काफ़िला...II
***************************************************
                                               S.Kumar.........

Monday, December 24, 2012

दरिन्दे...

 
"You, 23 yrs girl...I am sorry that I can't do anything for u from ur level...but from my level I can pray to God....Almighty God ! give her all ur strength to be normal" this poem is for u (23 yr old girl)....same on delhi gang rape....

Thursday, December 06, 2012

दिल के करीब....

 
 सूखे है ख्वाइशों के पत्ते,
मेरी मोहब्बत की शाख़ के,
जो तू इन्हे छू ले, तो इनमें,
हरियाली छाये I
हूं फिरता अज़नबी सा,
तेरे अपने शहर में,
जो तू अपनी चौखट पर बुलाले,
तो मेरा घर बस जाये II
**********************
मेरी आंखों में एक समंदर बसता है,
जिसकी लहरों में सिर्फ़,
तेरा चेहरा दिखता है,
जो हुए कभी उदास तो,
मेरा चेहरा पढ़ लेना,
कोइ है जो सिर्फ़,
तुमपे मरता-मिटता है I
लोगों की नादानियां तो देखो,
मेरी तन्हाइयों को इश्क का दर्ज़ा देते हैं,
उन्हें पता ही नही, इश्क से भी परे,
कहीं इस ज़हां में, तेरा-मेरा रिश्ता पलता है II
************************************
                           - S.Kumar
      
 

 

Monday, August 13, 2012

यादों के परिन्दें....


मेरी यादों के परिन्दों का आशियां,
तेरा ज़हां है I
तू ही इनकी ज़मीं, तू ही इनका,
आसमां है I
इन्हें अपने से दूर, कभी मत करना,
वरना लोग पूछेंगे,
वो परिन्दें कहाँ है, वो परिन्दें कहाँ है I
---------------------------Suresh Kumar