About Me

My photo
Jaunpur, Uttar Pradesh, India
"PricE of HappinesS"... U can tring tring me on +91 9981565685.

Sunday, August 07, 2011

सुरेश-ए-शायरी...
























ग़ुस्ताख़ियों के शमां में, बरबादियों का ज़श्न हुआ,
महफ़िल-ए-बेवफ़ाई में, हर लम्हा अश्क से बयां हुआ.
जो इक ग़ुस्ताख़ नज़र ने, हाल-ए-दिल को पढ़ लिया.
जश्न-ए-बरबादी, महफ़िल-ए-इश्क में बदल गयी.
*******************************************


ऐ दिल-ए-नादां, तू बेवफ़ा तो बन,
वो आयें तुझे मनाने, कुछ यूँ खता तो कर,
इश्क-ए-नाराज़गी में प्यार, बेशुमार होता है,
इश्क-ए-नाराज़गी का यूँ, ऐसे दीदार कर,
******************************************


उनकी मदहोश़ नज़रें कातिल हैं, मालूम था,
पर इतनी कातिल कि मेरे हर लम्हों पर वार करे,
उनसे नज़रे मिली तो खुद-ब-खुद समझ गया.
******************************************


दिल-ए-ख्वाइशें सिर्फ़ तेरी इनायत करती है,
मोहब्बत-ए-जुनूं को खुदा का दर्ज़ा देती है.
इन आंखों को सिर्फ़, रहगुज़र का दीदार हो,
जिस्म-ए-रूह, तुझसे बेइंतहां मोहब्बत करती है.


                                                          सुरेश कुमार
                                                           ०२/०८/२०११

5 comments:

S.N SHUKLA said...

मित्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं,आपकी कलम निरंतर सार्थक सृजन में लगी रहे .
एस .एन. शुक्ल

Suresh Kumar said...

Shri S.N.Shukla Ji..aapko bhi Mitrata Diwas ki dher saari badhaaiya..
bahut bahut dhanyawad aapki shubhakaamnao ke liye..

sushma 'आहुति' said...

बहुत खुबसूरत....

सागर said...

bhaut hi pyari rachna....

Amrita Tanmay said...

Umda likha hai