About Me

My photo
Jaunpur, Uttar Pradesh, India
"PricE of HappinesS"... U can tring tring me on +91 9981565685.

Thursday, August 25, 2011

सिर्फ़ तुम..सिर्फ़ तुम हो...


















प्रेमरुपी किताब,
के हर अध्याय में,
सिर्फ़ तुम..सिर्फ़ तुम हो...

जीवनरूपी समुद्र,
की हर बूँद-हर प्यास में,
सिर्फ़ तुम..सिर्फ़ तुम हो...


मेरे प्रेम-पाठ,
मेरे प्रेम-पंक्ति,
मेरे प्रेम-वाक्य,
मेरे प्रेम-शब्द,
मेरे प्रेमाक्क्षर,
मेरे प्रेमपृष्ठ में,
सिर्फ़ तुम..सिर्फ़ तुम हो...

मेरे मानसिक तरंगों
की गति,
तुम पर ठहरती,
अपलक निहारती,
सदैव स्मरण करती,
मेरी अभिलाषा, उल्लास,
हृदयावास में,
सिर्फ़ तुम..सिर्फ़ तुम हो...

तुम मन-स्मृति का केन्द्र बिन्दु,
प्रेम-प्राप्य, तुम प्रेम यथेष्ठ,
निरवधि तक प्रेमकाल में,
प्रिये !!!,
सिर्फ़ तुम..सिर्फ़ तुम हो...
                      
                           - सुरेश कुमार
                             २५/०८/२०११

3 comments:

Sunil Kumar said...

सुंदर प्रेममयी रचना बधाई ......

sushma 'आहुति' said...

मेरे प्रेम-पाठ,
मेरे प्रेम-पंक्ति,
मेरे प्रेम-वाक्य,
मेरे प्रेम-शब्द,
मेरे प्रेमाक्क्षर,
मेरे प्रेमपृष्ठ में,
सिर्फ़ तुम..सिर्फ़ तुम हो...प्रेम ही प्रेम बहुत खुबसूरत अभिवयक्ति....

डॉ. जेन्नी शबनम said...

bahut khoobsurat bhaav.