About Me

My photo
Jaunpur, Uttar Pradesh, India
"PricE of HappinesS"... U can tring tring me on +91 9981565685.

Sunday, August 07, 2011

वो रचना तुम हो.....



जिन्दगी की किताब में
नया अध्याय जोड़कर,
 हमेशा खुश रहता हूँ,
दौर ये आ गया कि मेरी जुबां पे
तुम्हारा नाम अक्सर आ जाता है,
एकांत में सोचता हूँ मैने ऐसी रचना,
कैसे रची जो मेरे मानसपटल में हमेशा
छायी रहती है.
तुम्हरा हर एक शब्द मेरे दिलो दिमाग
में गूँजता रहता है,
मुझे अपने प्रवाह में तेजी से बहा लेता है
और मै सहज बहता चला जाता हूँ,
अपने आप को भुलाकर मै कुछ
यूँ हो गया हूँ,
मानो, मैने गर जन्म लिया तो उसी,
रचना के लिये जो सिर्फ,
मेरी कलम से ही लिखी जा सकती है,
उसकी संवेदना, उसके भाव सिर्फ़ मै समझ
सकता हूँ.
उसे सिर्फ मै पढ़ सकता हूँ.
वो कलम मै, स्याही हमारी मोहब्बत
और प्रिये वो रचना तुम हो,
जिसे मैने खुद लिखा है.

                                                                                                 सुरेश कुमार
                                                                                                 ०७/०८/२०११




7 comments:

S.N SHUKLA said...

खूबसूरत प्रस्तुति,बधाई ,मित्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं

राकेश कौशिक said...

बहुत खूब - बहुत सुंदर

अभिषेक मिश्र said...

वाह ! क्या कल्पना है.

चन्द्र भूषण मिश्र ‘ग़ाफ़िल’ said...

बहुत सुन्दर...

sushma 'आहुति' said...

बहुत ही खुबसूरत रचना लिखा है....

Suresh Kumar said...

@ Shri S.N Shukla Ji
@ Shri Rakesh Kaushik Ji
@ Abhishek Bhaiya
@ Shri Chandra Bhushan Ji
@ Sushama Ji

aap logo ka bahut bahut dhanyawad..jab aap jaise log utsahwardhan karate hai to aur bhi likhane ka man karata hai...

Amrita Tanmay said...

badi khubsurat hai aapki rachana jise badi khubsurati se likha hai