About Me

My photo
Jaunpur, Uttar Pradesh, India
"PricE of HappinesS"... U can tring tring me on +91 9981565685.

Tuesday, August 23, 2011

सदा तुम नज़र आये...

अंतर्मन की दिव्यदृष्टि में,
                           सदा तुम नज़र आये.
मेरी रचना, हर काव्यपंक्ति में,
                           सदा तुम नज़र आये.

जब मन की रचना अपने पथ से,
                           विकृत व विफल हुई,
अंधियारों मे घुट-घुट कर ये,
                       नि:शब्द व असफल हुई,
शब्दकोश और मार्गदर्शिका,
                    बनकर तुम प्रियवर आये.
मेरी रचना, हर काव्यपंक्ति में,
                           सदा तुम नज़र आये.


प्राण-प्रिये तुम प्राणेश्वरी,
                      तन मन में कंठस्थ हुई,
तुम्हे सोचकर कलम उठे,
              तुम हर रचना मे व्यक्त हुई,
अधर खुले या बंद हुए,
                         बस तेरे ही स्वर आये.
मेरी रचना, हर काव्यपंक्ति में,
                           सदा तुम नज़र आये.


तुम, तुम ना रही, मै, मै ना रहा,
          तुम मुझमें बसी, मै तुझमें बसा,
तुम, मै हो गयी, मै तुम हो गया,
      "दो जिस्म मगर एक जान है हम"
हो सार्थक ये उदाहरण,
                    जब-जब ये हम पर आये,
मेरी रचना, हर काव्यपंक्ति में,
                             सदा तुम नज़र आये.

                                        - सुरेश कुमार
                                           २३/०८/२०११

10 comments:

जाट देवता (संदीप पवाँर) said...

जिसके बारे में आपने ये प्यारी पंक्तियाँ लिखी है, बहुत सुंदर लिखी है।

sushma 'आहुति' said...

बहुत ही खुबसूरत अभिवयक्ति....

कविता रावत said...

जब मन की रचना अपने पथ से, विकृत व विफल हुई,
अंधियारों मे घुट-घुट कर ये,
नि:शब्द व असफल हुई,
शब्दकोश और मार्गदर्शिका,
बनकर तुम प्रियवर आये.
...sach esi tarah do jab ek hote hai to jeewan sarthak ho jaata hai..
..bahut badiya bhavabhikti..

कविता रावत said...

Maa-pitaji kee photo aur jiwansangni kee photo dekhkar man ko behad khushi huyee..
iswar sabko aisa saput beta aur jiwansathi de, yahi man mein aa raha hai..
sabko meri haardik shubhkamnayen..

Suresh Kumar said...

"श्रीमती कविता रावत जी"...आपने बहुत बड़ी बात कह दी...समझ नही आ रहा आपको कैसे आभार प्रकट करूँ...किन्तु आपने जो बात कही है उसे मै जीवन भर याद रखुंगा..बहुत बहुत धन्यवाद....मेरे ब्लाग पर आपका सदैव स्वागत है...

Babli said...

बहुत सुन्दर भाव और अभिव्यक्ति के साथ लाजवाब रचना लिखा है आपने! बधाई!

Ojaswi Kaushal said...

Hi I really liked your blog.
I own a website. Which is a global platform for all the artists, whether they are poets, writers, or painters etc.
We publish the best Content, under the writers name.
I really liked the quality of your content. and we would love to publish your content as well. All of your content would be published under your name, so that you can get all the credit for the content. This is totally free of cost, and all the copy rights will remain with you. For better understanding,
You can Check the Hindi Corner, literature and editorial section of our website and the content shared by different writers and poets. Kindly Reply if you are intersted in it.

http://www.catchmypost.com

and kindly reply on mypost@catchmypost.com

anita agarwal said...

जब मन की रचना अपने पथ से,
विकृत व विफल हुई,
अंधियारों मे घुट-घुट कर ये,
नि:शब्द व असफल हुई,
शब्दकोश और मार्गदर्शिका,
बनकर तुम प्रियवर आये.
मेरी रचना, हर काव्यपंक्ति में,
सदा तुम नज़र आये.

prem mei doobi hui ek sunder rachna ke liye badhai...

Vaneet Nagpal said...

सुरेश कुमार जी,
नमस्कार,
आपके ब्लॉग को "सिटी जलालाबाद डाट ब्लॉगसपाट डाट काम" के "हिंदी ब्लॉग लिस्ट पेज" पर लिंक किया जा रहा है|

Jyoti Mishra said...

First of all thanks for visiting my blog, I really appreciate that.

Beautiful expressions here.
Nice read !!